Won the world by sitting on a wheelchair |व्हीलचेयर पर ही बैठ कर जीत ली दुनियाँ

Won the world by sitting on a wheelchair


 "Strength doesn't come from winning, your struggle is your strength. When you go through difficulties without surrendering, that becomes your real strength."


 Inspired by these ideas of famous Hollywood actor and bodybuilder Arnold Schwarzenegger, Yana's Anand Annold made the impossible possible today with his morale and hard work while fighting cancer and paralysis.  Seeing his elder brother, Anand was fond of bodybuilding since childhood.  By the age of 15, he was diagnosed with cancer of his spinal cord, during which his lower back was also paralyzed during treatment.  But still he never let his disability come in the way and he continued his training while wheelchair bound and worked hard day and night to win many competitions, including Mr. India Mr. North India 4 times and Mr. Punjab 12 times.  Also 2016 World Mr.  Become a Wheelchair Body Builder.


 Anand is the first player in India to participate in body building competitions while sitting in a wheelchair.  A book has also been written on Anand's biography, Weightless - A True Story Of Courage And Inspiration' a14h by Allen Woodman.  Anand has also shown his talent in India's Got Talent.  Along with this, he was also seen in the Telugu film Supreme.  Nowadays, Anand works as the brand ambassador of HaleLife Nutrition And Fitness company living in the city of Las Vegas, USA.


 Anand, popularly known as India's Arnold Schwarzenegger, has proved with his passion that physical disability can never become our weakness if we are full of confidence and determination.


Translate in hindi :-

व्हीलचेयर पर ही बैठ कर जीत ली दुनियाँ



"ताकत जीतने से नहीं आती है, आपका संघर्ष ही आपकी ताकत है। बिना समर्पण किये जब आप कठिनाइयों से गुजरते हुए आगे बढ़ते हैं तो यही आपकी असली ताकत बन जाती है।"


विख्यात हॉलीवुड अभिनेता और बॉडीबिल्डर Arnold Schwarzenegger के इन्हीं विचारों से प्रेरित होकर याना के आनंद अन्नोल्ड ने कैंसर और लकवे की बीमारी से लड़ते हुए अपने मनोबल और कड़ी मेहनत से आज नामुमकिन को भी मुमकिन कर दिखाया। अपने बड़े भाई को देखकर आनंद को बचपन से ही बॉडीबिल्डिंग से लगाव हो गाया था। 15 साल की उम्र तक आते-आते इन्हें अपनी रीढ़ की हड्डी के कैंसर का पता चला जिसके इलाज के दौरान इनके कमर के निचले हिस्से को लकवा भी मार गया। लेकिन फिर भी इन्होंने अपनी अपंगता को कभी आड़े नहीं आने दिया और व्हीलचेयर से बंधे-बंधे ही उन्होंने अपना प्रशिक्षण जारी रखा और दिन-रात मेहनत कर कई प्रतियोगिताएं जीतीं जिसमें 4 बार मिस्टर इंडिया मिस्टर नार्थ इंडिया और 12 बार मिस्टर पंजाब शामिल है। साथ ही à 2016 À World Mr. Wheelchair Body Builder बने।




आनंद भारत के ऐसे पहले खिलाड़ी हैं जो व्हीलचेयर पर बैठ कर बॉडी बिल्डिंग प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं। आनंद की जीवनी पर Allen Woodman द्वारा Weightless - A True Story Of Courage And Inspiration' a14h एक किताब भी लिखी गयी है। आनंद इंडियाज गॉट टैलेंट में भी अपना हुनर दिखा चुके हैं। साथ ही ये तेलगु फिल्म Supreme में भी नज़र आये थे। आजकल आनंद अमेरिका के Las Vegas शहर में रहते हुए HaleLife Nutrition And Fitness कंपनी के ब्रांड अम्बेसडर के रूप में काम करते हैं।


भारत के Arnold Schwarzenegger के नाम से मशहूर आनंद ने आज अपने जज़्बे से ये साबित कर दिया है की यदि हम में आत्मविश्वास और दृढ़ निश्चय कूट-कूट कर भरा हो तो शारीरिक अपंगता कभी भी हमारी कमज़ोरी नहीं बन सकती।


Weightless: A true story of courage an dinspiration


 Click on Book link:- 



Comments

Popular posts from this blog

The dreams of poor children took a long flight under the Delhi Metro bridge| दिल्ली मेट्रो पुल के नीचे गरीब बच्चों के सपनों ने भरी लम्बी उड़ान

Country's first institution to empower rural women with MBA level education | ग्रामीण महिलाओं को MBA स्तरीय शिक्षा से सशक्त बनाती देश की पहली संस्था